Covid-19 and Tuberculosis टीबी के सभी मरीजों को अब कराना होगा कोरोना टेस्ट, स्वास्थ्य मंत्रालय का आदेश

Covid-19 and Tuberculosis: अब टीबी के सभी मरीजों को कोरोना की जांच करानी होगी। केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने टीबी के मरीजों को यह सलाह दी है। हेल्थ मिनिस्ट्री द्वारा टीबी के मरीज़ों के लिए कोरोना से जुड़ी नयी गाइडलाइन्स जारी की गयी हैं।  जिसकेकचरा बात कर रहे इलेक्ट्रॉनिक डार्टबोर्ड, अनुसार टीबी से पीड़ित सभी लोगों को कोरोना वायरस संक्रमण का पता लगाने वाला टेस्ट कराना होगा। (Covid-19 and Tuberculosis) Also Read - स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहाकचरा बात कर रहे इलेक्ट्रॉनिक डार्टबोर्ड, कोविड रोगियों के लिए मेडिकल ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि टीबी के मरीजों को कोविड-19 इंफेक्शन का खतरा ज़्यादा है। इसीलिएकचरा बात कर रहे इलेक्ट्रॉनिक डार्टबोर्ड, ऐसे सभी लोग जो टीबी का इलाज करा रहे हैंकचरा बात कर रहे इलेक्ट्रॉनिक डार्टबोर्ड,  उन्हें कोविड संक्रमण की जांच करानी चाहिए। गौरतलब है कि कुछ समय पहले सामने आए एक रिसर्च में कहा गया कि कोविड से पीड़ित 4.47 फीसदी मरीजों को टीबी था। Also Read - Covid-19 Live Updates: भारत में कोरोना के मरीजों की संख्या हुई 49कचरा बात कर रहे इलेक्ट्रॉनिक डार्टबोर्ड,30, पहला हाथ में फुटबॉल खेल236, अब तक 80,776 लोगों की मौत

  Also Read - केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, कोरोनावायरस से लड़ाई अभी जारी रहेगी

टीबी के सभी मरीजों को अब कराना होगा कोरोना टेस्ट:

रिपोर्ट के अनुसार टीबी के मरीजों को कोरोना संक्रमण होने का खतरा दूसरों की तुलना में दोगुना है। साथ ही कोरोना से संक्रमित होने के बाद टीबी मरीजों में यह समस्या गम्भीर और जानलेवा होने का डर भी अधिक है।

इन गाइडलाइन्स के मुताबिक ऐसे टीबी के मरीज जिनकी डायट ठीक नहीं  है या जो खाने-पीने से जुड़ी लापरवाही बरतते हैं उनके लिए कोविड-19 संक्रमण का ख़तरा ज़्यादा है। इसी तरह सिगरेट पीने वाले (Smoking and Corona) या तम्बाकू (Tobacco and Covid-19 Infection)  का सेवन करने वाले मरीज़ों को भी कोरोना की चपेट में आने का रिस्क ज़्यादा है। इसीलिए ऐसे मरीज़ों को कोविड-19 का टेस्ट ज़रूर करवाना चाहिए। (Covid-19 and Tuberculosis Patients)

मिनिस्ट्री द्वारा चेताया गया है कि, टीबी और कोविड दोनों ही संक्रामक होती हैं। इन दोनों ही बीमारियों में फेफड़ों (Lungs) पर असर होता है। मंत्रालय के अनुसार रिसर्च में पता चला है कि टीबी से ठीक हो चुके लोगों में कोविड-19 इंफेक्शन का ख़तरा ज़्यादा है। इसीलिए, कोरोना टेस्ट कराने से समय पर आवश्यक कदम उठाए जा सकेंगे।

सुपरफास्ट ‘स्पुतनिक-5’ वैक्सीन है कितनी सुरक्षित?,कचरा बात कर रहे इलेक्ट्रॉनिक डार्टबोर्ड WHO ने कहा कड़ी सुरक्षा जांच के बाद होगा स्पष्ट

वेट लॉस के लिए कितना फल और कितनी सब्ज़ियां खानी चाहिए?

सिर्फ फेफड़े ही नहीं शरीर के कई अंगों को प्रभावित करता है कोरोना : एम्स विशेषज्ञों का दावा

वेट लॉस के लिए इंटरमिटेंट फास्टिंग है असरदार, डायट में ज़रूर शामिल करें ये 5 फूड्स

मदर टेरेसा की तरह बनें दयालु, दया की भावना से सेहत को होते हैं ये बेमिसाल फायदे

वेट लॉस के लिए नाश्ते में खाएं हेल्दी ओट्स, जानें ओट्स के अन्य फायदे और एक हेल्दी रेसिपी

Published : August 28, 2020 11:01 am | Updated:August 28, 2020 11:30 am Read Disclaimer Comments - Join the Discussion साल 2021 की शुरुआत में भारत के पास होगी कोरोना की अपनी वैक्सीन, बर्नस्टीन रिसर्च की रिपोर्ट में दावासाल 2021 की शुरुआत में भारत के पास होगी कोरोना की अपनी वैक्सीन, बर्नस्टीन रिसर्च की रिपोर्ट में दावा साल 2021 की शुरुआत में भारत के पास होगी कोरोना की अपनी वैक्सीन, बर्नस्टीन रिसर्च की रिपोर्ट में दावा रिसर्च में बड़ा खुलासा, कोरोना के खिलाफ लड़ने में महिलाओं का इम्युन​ सिस्टम है पुरुषों से काफी बेहतररिसर्च में बड़ा खुलासा, कोरोना के खिलाफ लड़ने में महिलाओं का इम्युन​ सिस्टम है पुरुषों से काफी बेहतर रिसर्च में बड़ा खुलासा, कोरोना के खिलाफ लड़ने में महिलाओं का इम्युन​ सिस्टम है पुरुषों से काफी बेहतर ,,

上一篇:कचरा बात कर रहे इलेक्ट्रॉनिक डार्टबोर्ड भारत के पास 2021 की शुरुआत में होगा वैक्    下一篇:कचरा बात कर रहे इलेक्ट्रॉनिक डार्टबोर्ड कोरोना के खिलाफ लड़ने में महिलाओं का    

Powered by सोनी पोर्टेबल गेमिंग @2018 RSS地图 html地图