Coronavirus Pandemic कोरोना वायरस महामारी से निपटने के अभियानों में भारत के कोविड वॉरियर्स करेंगे योगदानसरल इलेक्ट्रॉनिक खेल, भारत अपनी 2 टीमें भेज रहा है UN मिशन

Coronavirus Pandemic:  दुनियाभर में कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Outbreak) से निपटने के लिए विभिन्न तरीकों से कोशिश की जा रही है। इसी दिशा में भारत अपनी विशेष टीमें भेजकर अन्य देशों को भी इस महामारी के संकट से निकलने में मदद कर रहा है।  दक्षिण सूडान और कांगो गणराज्य में कोविड-19 संक्रमण (Covid-19 Infection) की  चुनौती से निपटने को लेकर संयुक्त राष्ट्र (यूएन) द्वारा विशेष शांति अभियान चलाए जा रहे हैं। जिनके तहत मेडिकल सुविधाओं को बेहतर बनाने के लिए भारत अपने एक्सपर्ट्स की  2 टीमें भेज रहा है। भारत के यूएन मिशन ने यह जानकारी दी। Also Read - भारत में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविड वैक्सीन का ट्रायल फिर से शुरूसरल इलेक्ट्रॉनिक खेल, DCGI ने दी अनुमति

मिशन ने कहा कि भारत ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस के अनुरोध पर प्रतिक्रिया दी हैसरल इलेक्ट्रॉनिक खेल, जिसमें उन्होंने उन देशों में कोविड-19 से निपटने के लिए भारतीय शांति मिशन के सैनिकों द्वारा प्रबंधित अस्पताल सुविधाओं को बढ़ाने के लिए सहयोग देने का आग्रह किया है। इसने कहासरल इलेक्ट्रॉनिक खेल, “इस अनुरोध का हमने स्वागत किया है।” (Coronavirus Pandemic) Also Read - कितने अलग होते हैं फ्लू और कोविड-19 के लक्षण? जानें दोनों के बीच का अंतर

15 विशेषज्ञों की एक टीम जाएगी सूडान

इसने  बताया कि 15 विशेषज्ञों की एक टीम इस महीने के अंत में कांगो के गोमा जाएगीसरल इलेक्ट्रॉनिक खेल, पोर्टेबल गेम कंसोल जहां जनवरी 2005 से भारत द्वारा चलाए जा रहे अस्पताल में पहले से ही 18 विशेषज्ञों सहित 90 भारतीय हैं। संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन के लिए मुख्य कमांड और नियंत्रण केंद्र ‘मोनुस्को’ गोमा में स्थित है। मोनुस्को में 2,030 भारतीय शांति सैनिक तैनात हैं। Also Read - Covid-19 Live Updates: भारत में कोरोना के मरीजों की संख्या हुई 49,30,236, अब तक 80,सरल इलेक्ट्रॉनिक खेल776 लोगों की मौत

15 विशेषज्ञों की एक अन्य टीम दक्षिण सूडान के जुबा जाएगी, जहां दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (यूएनएमआईएसएस) के साथ 2016 से चलाए जा रहे भारतीय अस्पताल में 12 विशेषज्ञों सहित 77 भारतीय हैं, जिसमें 2,420 भारतीय शांति सैनिक हैं।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए लोगों को शिक्षक करेंगे जागरूक

इसकी तरह एक अनूठा प्रयास किया जा रहा है उत्तर प्रदेश में, जहां राज्य में बढ़ते संकट  कोरोना के मामलों के बीच आम लोगों को जागरूक बनाने के लिए  शिक्षक भी आगे आए हैं। ये शिक्षक सर्विलांस सिस्टम (कोविड 19 ट्रैकर एप) से लोगों को जानकारी देंगे। मिली जानकारी के अनुसार, मिड-प्रायमरी स्कूलों के टीचर्स सरकार की ओर से जारी आरोग्य सेतु और आयुष कवच हेल्थ एप के ज़रिए  लोगों को जागरूक करने के लिए सामने आ रहे हैं।

प्रशासन की तरफ से ज़ारी गाइडलाइन्स के मुताबिक,  लखनऊ , रायबरेली, लखीमपुर, हरदोई, सीतापुर के डीआईओएस को निर्देश दिए गए हैं कि वे अपने क्षेत्र में इस तरह के कार्यक्रम चलाएं।  मंडलीय विज्ञान प्रगति अधिकारी डॉ. दिनेश कुमार ने जानकारी दी कि अभी तक टीचर्स अपने  छात्र-छात्राओं और उनके माता-पिता को कोविड-19 इंफेक्शन के प्रति जागरूक बनाने के लिए  सर्विलांस सिस्टम की मदद से जानकारी देते आए हैं। लेकिन, अब ये शिक्षक आम लोगों को इस महामारी के बारे में जागरूक करेंगे।

गौरतलब है कि, उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण तेज़ी से बढ़ता जा रहा है।  अब तक राज्य में 3 हजार से अधिक लोगों की कोविड-19 इंफेक्शन से मौत हो चुकी है।

Published : September 6, 2020 10:21 am | Updated:September 6, 2020 10:50 am Read Disclaimer Comments - Join the Discussion ईरान और रूस मिलकर करेंगे कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादनईरान और रूस मिलकर करेंगे कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादन ईरान और रूस मिलकर करेंगे कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादन दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को कम करने के साथ ही डेंगू के खिलाफ शुरू होगा 10 हफ्ते का महाअभियानदिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को कम करने के साथ ही डेंगू के खिलाफ शुरू होगा 10 हफ्ते का महाअभियान दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को कम करने के साथ ही डेंगू के खिलाफ शुरू होगा 10 हफ्ते का महाअभियान ,,

上一篇:सरल इलेक्ट्रॉनिक खेल गठिया की दवा क्या कोरोना के इलाज में आ सकेगी काम? TheHealthSite Hind    下一篇:सरल इलेक्ट्रॉनिक खेल Delhi Metro in Hindi: दिल्ली मेट्रो की सेवाएं 7 सितंबर से होंगी शुरू, य    

Powered by सोनी पोर्टेबल गेमिंग @2018 RSS地图 html地图