Coronavirus सिर्फ फेफड़े ही नहीं शरीर के कई अंगों को प्रभावित करता है कोरोना : एम्स विशेषज्ञों का दावा

Coronavirus Affected Organs : कोरोनावायरस को लेकर अबतक विशेषज्ञों का कहना है कि यह सबसे अधिक फेफड़ों को प्रभावित करता है। इसके अलावा यह शरीर के कुछ अन्य अंगों को भी प्रभावित करता है, लेकिन अब इस बारे में दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के विशेषज्ञों ने कहा है कि कोविड-19 न सिर्फ फेफड़े को बल्कि, शरीर के लभगभ सभी अंगों को प्रभावित करता है। प्रारंभिक लक्षण छाती की शिकायत से बिल्कुल असंबंधित हो (Coronavirus Affected Organs) सकते हैं। Also Read - स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहाटाइगर स्टार युद्ध इलेक्ट्रॉनिक गांगेय लड़ाई, कोविड रोगियों के लिए मेडिकल ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं

विशेषज्ञों ने इस बात पर जोर दिया कि शरीर के दूसरे अंगों को शामिल करने के लिएटाइगर स्टार युद्ध इलेक्ट्रॉनिक गांगेय लड़ाई, सांस के लक्षणों के आधार पर हल्केटाइगर स्टार युद्ध इलेक्ट्रॉनिक गांगेय लड़ाई, मध्यम और गंभीर श्रेणियों के मामलों को वर्गीकरण करने पर पुन: विचार करना (Coronavirus Affected Organs) चाहिए। Also Read - Covid-19 Live Updates: भारत में कोरोना के मरीजों की संख्या हुई 49टाइगर स्टार युद्ध इलेक्ट्रॉनिक गांगेय लड़ाई,30टाइगर स्टार युद्ध इलेक्ट्रॉनिक गांगेय लड़ाई,236, मैटल इलेक्ट्रॉनिक फु अब तक 80,776 लोगों की मौत

एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया, हृदय चिकित्सा विज्ञान विभाग के प्रोफेसर डॉ. अंबुज राय, स्नायु विभाग के प्रमुख डॉ एम वी पद्मा श्रीवास्तव, मेडिसीन विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. नीरज निश्चल सहित संस्थान के विशेषज्ञों ने नीति आयोग के साथ मिलकर साप्ताहिक ‘नेशनल क्लीनिकल ग्राउंड राउंड्स’ में कोविड-19 का फेफड़े पर होने वाले संभावित जटिलताओं पर चर्चा की। Also Read - केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, कोरोनावायरस से लड़ाई अभी जारी रहेगी

क्या फिटनेस गैजेट्स कोरोनावायरस से करेगा आपको आगाह? जानें क्या कहते हैं वैज्ञानिक

सप्ताहिक चर्चा में एम्स के निदेशक डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि क्योंकि कोरोनावायरस के बारे में हमने अधिक से अधिक जानने की कोशिश की है,टाइगर स्टार युद्ध इलेक्ट्रॉनिक गांगेय लड़ाई तो हमने महसूस किया है कि कोविड-19 फेफड़ों पर अपना प्रभाव दिखाता है। उन्होंने कहा कि यह तथ्य सही है कि कोविड-19 वायरस एसीई 2रिसेप्टर से कोशिका में प्रवेश करता है, इसलिए यह सांस लेने वाली नली और फेफड़ों को अधिक मात्रा में प्रभावित करता है, लेकिन कोविड-19 शरीर के अन्य अंगो को भी प्रभावित कर रहा है।

अपनी चर्चा में गुलेरिया ने आगे कहा कि हमारे पास कई ऐसे मरीज आए हैं, जिन्हें फेफड़ों की कम और अन्य अंगों की अधिक समस्याएं हो रही थीं।

मदर टेरेसा की तरह बनें दयालु, दया की भावना से सेहत को होते हैं ये बेमिसाल फायदे

Published : August 27, 2020 9:37 am | Updated:August 27, 2020 2:45 pm Read Disclaimer Comments - Join the Discussion दोपहर के समय झपकी लेना पड़ सकता है भारी, इस गंभीर समस्या से हो सकते हैं ग्रसितदोपहर के समय झपकी लेना पड़ सकता है भारी, इस गंभीर समस्या से हो सकते हैं ग्रसित दोपहर के समय झपकी लेना पड़ सकता है भारी, इस गंभीर समस्या से हो सकते हैं ग्रसित कमज़ोर मेंटल हेल्थ से इम्यूनिटी होती है प्रभावित, मानसिक परेशानियों से निपटने के लिए हेल्पलाइन 'किरण' हुई लॉन्चकमज़ोर मेंटल हेल्थ से इम्यूनिटी होती है प्रभावित, मानसिक परेशानियों से निपटने के लिए हेल्पलाइन 'किरण' हुई लॉन्च कमज़ोर मेंटल हेल्थ से इम्यूनिटी होती है प्रभावित, मानसिक परेशानियों से निपटने के लिए हेल्पलाइन 'किरण' हुई लॉन्च ,,

上一篇:टाइगर स्टार युद्ध इलेक्ट्रॉनिक गांगेय लड़ाई Symptoms of Coronavirus in Hindi: कोरोनावायरस के लक्    下一篇:टाइगर स्टार युद्ध इलेक्ट्रॉनिक गांगेय लड़ाई कोरोना के खिलाफ लड़ने में महिला    

Powered by सोनी पोर्टेबल गेमिंग @2018 RSS地图 html地图